peperonity Mobile Community
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

# बहन के साथ मज़ा # | fuckstories


# बहन के साथ मज़ा #
मेरा नाम अमित है और मै 20 साल का हूँ मेरी दीदी का नाम संगीता है और उसकी उमर क़रीब 26 साल है दीदी मुझसे 6 साल बारी हैं हमलोग एक छोटे से फ़्लत मे मुंबई मे रहते हैं

हमारा घर मे एक छोटा सा हलल, दिनिंग रूम दो बेडरोम और एक कित्चें है बाथरूम एक ही था और उसको सभी लोग इस्तेमल करते थे. हमरे पिता और मा दोनो नौकरी करते हैं दीदी मुझको अमित कह कर पुकारती हैं और मै उनको दीदी कहा कर पुकाता हूँ. शुरू शुरू मे मुझे सेक्श के बारे कुछ नही मालूम था क्योंकि मै हिघ सचूल मे पर्हता था और हमरे बुल्डिंग मे भी अच्छी मेरे उमर की कोई लार्की नही थी. इसलिए मैने अभी तक सेक्श का मज़ा नही लिया था और ना ही मैने बटक कोई नंगी लार्की देखी थी. हाँ मै कभो कभी प्रोनो मागज़ीने मे नंगी तसबीर देख ल

मुझे अभी तक याद है की मैई अपना पहला मूट मेरी दीदी के लिए ही मारा था. एक सुंदय सुबह सुबह जैसे ही मेरी दीदी बाथरूम से निकली मैई बाथरूम मे घुस गया. मई बाथरूम का दरवाज़ा बंद किया और अपने कपरे खोलना शुरू किया. मुझे जोरो की पिशाब लगी थी. पिशाब करने के बाद मैई अपने लंड से खेलने लगा. एका एक मेरी नज़र बाथरूम के किनारे दीदी के उतरे हुए कपरे पर परा. वँह पर दीदी पानी निघतगोवँ उतर कर चोर गयी थी. जैसे ही मैने दीदी की निघतगोवँ उठाया तो देखा की निघतगोवँ के नीचे दीदी की ब्लक्क ब्रा परा हुआ था. जैसे ही मैई दीदी का काले रंग का ब्रा उठाया तो मेरा लंड अपने आप कहरा होने लगा. मई दीदी के निघतगोवँ उठाया तो उसमे से दीदी के नीले रंग का पंतय भी गिर कर नीचे गिर गया. मैने पंतय भी उठा लिया. अब मेरे एक हाथ मे दीदी की पंतय थी और दूसरे हाथ मे दीदी के ब्रा था.

ओह भगवान दीदी के अंडेरवाले कपरे चूमे से ही कितना मज़ा आ रहा है एह वोही ब्रा हैं जो की कुछ देर पहले दीदी के चुनचेओं को जाकर रखा था और एह वोही पंतय हैं जो की कुछ देर पहले तक दीदी की छूट से लिपटा था. एह सोच सोच करके मैई हैरान हो रहा था और अंदर ही अंदर गरमा रहा था. मई सोच नही प र्ह था की मैई दीदी के ब्रा और पंतय को लेकर्के क्या करूँ. मई दीदी की ब्रा और पंतय को लेकर्के हैर तरफ़ से छुआ, सूंघा, चटा और पता नही क्या क्या किया. मई उन कपरों को अपने लंड पर माला. ब्रा को अपने छाती पर रखा. मई अपने खरे लंड के ऊपेर दीदी की पंतय को पहना और वो लंड के ऊपेर ताना हुआ था. फिर बाद मे मैं दीदी की निघतगोवँ को बाथरूम के देवर के पास एक हंगेर पर तंग दिया. फिर कपरे तंगने वाला पीन लेकर्के ब्रा को ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top